first 30 electronic configuration of elements. Useful

first 30 electronic configuration of elements.यदि किसी एलिमेंट का atomic number मालूम हो तो हुंड के नियम,पाउली का अपवर्जन नियमऔर ऑफ बौऊ नियम की हेल्प से उसका पूरा इलेक्ट्रॉनिक विन्यास लिखा जा सकता हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

किसी तत्व का इलेक्ट्रॉन विन्यास (electronic configuration of elements)बताता है कि इलेक्ट्रॉनों को उनके परमाणु कक्षाओं में कैसे वितरित किया जाता है। परमाणुओं के इलेक्ट्रॉन विन्यास एक मानक संकेतन का पालन करते हैं जिसमें सभी इलेक्ट्रॉन युक्त परमाणु upkosh  एक क्रम में रखे जाते हैं। उदाहरण के लिए, सोडियम का इलेक्ट्रॉन विन्यास 1s22s22p63s1 है।

first 30 electronic configuration of elements

Hydrogen(1H)- 1s1

Helium(2He)1s2

Lithium(3Li)1s2,2s1

Beryllium(4Be)1s2,2s2

Boron(5B)1s2,2s2,2p1

Carbon(6C)1s2,2s2,2p2

Nitrogen(7N)-1s2,2s2,2p3

Oxygen(8O)- 1s2,2s2,2p4

Fluorine(9F)-1s2,2s2,2p5

Neon(10Ne)1s2,2s2,2p6

Sodium(11Na)-1S2,2S2,2P6,3S1

Magnesium(12Mg)-1S2,2S2,2P6,3S2

Aluminum(13Al)-1S2,2S2,2P6,3S2,3P1

Silicon(14Si)-1S2,2S2,2P6,3S2,3P2

Phosphorus(15P)-1S2,2S2,2P6,3S2,3P3

Sulphur(16S)-1S2,2S2,2P6,3S2,3P4

Chlorine(17Cl)-1S2,2S2,2P6,3S2,3P5

Argon(18Ar)-1S2,2S2,2P6,3S2,3P6

potassium (19K)- )-[Ar]4S1

Calcium(20Ca)- )-[Ar] 4S2

Scandium(21Sc)-[Ar]3d14s2

Titanium(22Ti)-[Ar]3d24s2

Vanadium(23V)-[Ar]3d34s2

Chromium(24Cr)-[Ar]3d54s1

Manganese(25Mn)-[Ar]3d54s2

Iron(26Fe)-[Ar]3d64s2

Cobalt(27Co)-[Ar]3d74s2

Nickel(28Ni)-[Ar]3d84s2

Copper(29Cu)-[Ar]3d94s1

Zink(30Zn)-[Ar]3d104s2

first 30 electronic configuration of elements

(1) electrons की  संख्या 2n2 होती हैं इसमें n principal क्वांटम संख्या हैं।

मुख्य उर्जा स्तर nप्रति ऊर्जा स्तर 2n2 . अनुमत इलेक्ट्रॉनों की अधिकतम संख्या
12 x (1)2=2
22 x (2)2=8
32 x (3)2=18
42 x (4)2=32
52 x (5)2=50
62 x (6)2=72

first 30 electronic configuration of elements

(2) upkosh (s,p,d,f) electrons की अधिकतम संख्या 2(2l+1)

l का मान upkosh (s,p,d,f) के लिए  -1,0,+1

(s,p,d,f) upkosh में अधिकतम electron 2,6,10 ,14

(3) आर्बिटल में electron भरने का क्रम एक  नियम पर आधारित होता है।

(i)-जिसमें n+l का मान न्यूनतम होता है electron पहले उस ऑर्बिटल में  प्रवेश करता है।

दो ऑर्बिटल के लिए (n+l) का मान एक हो तो पहले electronउस ऑर्बिटल में  प्रवेश करता ह,जिसमे n का मान कम होता हैं।

(ii)हुंड का अधिकतम बहुलता का  नियम का अर्थ यह है कि किसी भी upkosh केorbital में इलैक्ट्रांस का युग्मन  तब तक नहीं होता जब तक कि उस upkosh के समस्त कक्षकों  में एक-एक इलेक्ट्रान नहीं चला जाता है।

(iii)-किसी एक orbital में अधिक से अधिक दो electron रह सकते हैं।और spin भी दो टाइप की होती हैं।एक ही ऑर्बिटल  में रहने वाले दो electrons के spin opposite डायरेक्शन में होते हैं।

(4)  पार्शियल  रूप से भरे हुए upkosh के कंपैरिजन में वह upkosh  अधिक स्टेबल होता है जिसके ऑल आर्बिटल half filled या full filled होते हैं। इलेक्ट्रॉन इस  प्रकार भरे जाते हैं किउपकोष स्टेबिलिटी प्राप्त करें।

(5) orbitals के रूप में इलेक्ट्रॉनिक विन्यास write करते समय orbitals को एक round या बॉक्स के द्वारा show करते हैं तथा इसमें present electron को उसके spin की डायरेक्शन  तीर के द्वारा show करते हैं-

अभी यह फिनिश नहीं हुआ हैं इसमें अभी बहुत से example ऐड करना बाकि हैं जो में कर दूंगा आप अपनी  query कमेन्ट बॉक्स में कर सकते हैं|

first 30 electronic configuration of elements

2 thoughts on “first 30 electronic configuration of elements. Useful”

Leave a Comment