Aromaticity in hindi

Aromaticity in hindi
aromatic compounds hindi

Aromaticity in hindi.ऐरोमैटिकता का ऐरोमैटिक गुण  से मतलब होता है ,जिसमे यौगिक के चक्रीय, प्लेनरऔरअनुनाद की स्टडी की जाती है.ऐरोमैटिकता यौगिक की केमिकल प्रॉपर्टी से रिलेटेड होता है. aromaticity

Aromaticity in Hindi

प्रस्तावना(Introduction):aromaticity definition in hindi

ऐरोमैटिकता को समझने से पहले हमें यह पता होना चाहिए की कार्बनिक यौगिक क्या है ? और कितने प्रकार के होते हैI उदाहरण के लिए बेंजीन, यूरिया, ऐसिटेमाइड, नाइट्रोबेंजीन आदि  हैIइनमे मुख्य  परमाणु  हाइड्रोजन और कार्बन होते हैIऔर इनमे से कुछ चक्रीय और कुछ खुली श्रंखला होते हैIwhat does planar mean in organic chemistry

जिन्हें हम एलिफैटिक ,एरोमेटिकऔर ऐलीचक्रीय के नाम से जानते हैI इनमे से हम ऐरोमैटिकता क्या है की बात करेंगे जिसमे बेंजीन रिंग होती है और यह चक्रीय होता है.शुरुआत में जब ऐरोमैटिकता की ख़ोज हुई थी तब इसे सुगंध से रिलेटेड करते थे.क्योंकि Aroma का मतलब खुशबु यानि ऐसे एरोमेटिक यौगिक क्या है जो खुशबु देते है वो कार्बनिक यौगिक कहलाते है, ऐसा माना जाता था.

what is aromatic compound in hindi

लेकिन बाद में कई कार्बनिक यौगिक की ख़ोज हुई जिनमे  दुर्गन्ध होती थीIअत: ऐरोमैटिकता, aromaticity kya hai की केमिकल प्रॉपर्टीज होती है न की उसमे खुशबू होती है इसलिए एरोमेटिक है.यह  योगिक चक्रीय और समतल होते  और इनमे  अनुनाद होता है,जिसके कारण इसकी स्थायित्व बढ़  जाता  है.और यह आसानी से रिएक्शन नहीं करता हैIतो चलिए  ऐरोमैटिकता क्या ? और क्या इसकी शर्ते है? इसको विस्तार से समझते हैIaromaticity rules organic chemistry

नियम और शर्ते : what is aromaticity in hindi

ऐरोमैटिकता aromaticity meaning in hindi को समझने के लिए कुछ नियम और शर्ते अत्यंत आवश्यक होती है इनमे से तीन शर्ते महत्वपूर्ण है,जो इस प्रकार से है .

  • प्लेनर
  • हकल नियम का पालन
  • pi electrono का पूर्णत: विस्थानिकरण

प्लेनर:-

एरोमेटिक यौगिक होने के लिए यौगिक,प्लेनर होना चाहिए मतलब इसमें sp2 संकरण होना चाहिए. aromatic compounds in hindi

planner
aromaticity

 

नोट : (यदि यौगिक प्लेनर है तो यह पक्का है की वो sp2 संकरण प्रदर्शित  करेंगा,लेकिन यदि यौगिक में sp2 संकरण होगा  तो जरुरी नहीं है की वह प्लेनर होगाI) aromatic compounds hindi

इस डायग्राम में बेंजीन में sp2 संकरण प्रदर्शित है.बेंजीन में sp2 संकरण कैसे होता है यह बेंजीन की सरचना टॉपिक पर विस्तार से बतांयेंगेI

example :बेंजीन,नेफ़थलीन,एंथ्रासीन etc. ये सभी planner हैIइनके each कार्बन एटम पर sp2 संकरण होता हैI एरोमेटिक के उदाहरण

एरोमेटिक का क्या है

बेंजीन
aromaticity

हकल नियम का पालन:-  हकल का नियम इन हिंदी

यह दूसरा महत्वपूर्ण नियम है I इस नियम के अनुसार एरोमेटिक होने के लिये हकल का रूल  (4n+2)π electrons का पालन होना चाहिए Iजिसमे  n=0,1,2,3,……है Iइसका मतलब यह है की एरोमेटिक होने के लिए यौगिक के पास इस फोर्मुले के अनुसार pi इलेक्ट्रान होना चाहिए I

जैसे की यदि n=1 होतो  हकल का रूल  (4n+2)π electrons के अनुसार :-

4*1+2=6 pi इलेक्ट्रान

example : बेंजीन (C6H6) में कुल 6 pi इलेक्ट्रान है I

बेंजीन
aromaticity

हकल का नियम समझाइए

यदि n=2,  4*2+2=10. (नेफ़थलीन)

10 pi electron
what is huckel’s law

n=3,  4*3+2=14. (एंथ्रासीन)

14 pi elctron
what are huckel rule for aromaticity

यदि n =0 होतो  4*0+2=2 pi (साइक्लोप्रोपेनाइल धनायन)

cyclopropenyl cation
aromaticity in Hindi

pi electrono का पूर्णत: विस्थानिकरण:-

तीसरा महत्वपूर्ण नियम रिंग में pi electrono का पूर्णत: विस्थानिकरण होना चाहिए I

huckel rule of aromaticity in hindi

ट्रोपोलियम केटायन(सायक्लो हेप्टा ट्राई इनाइल केटायन)

ट्रोपोलियम केटायन
ट्रोपोलियम केटायन

यह ट्रोपोलियम केटायन है और यह एरोमेटिक की तीनो शर्तों  पूरा करता है I पहली शर्त यह प्लनेर है,इसमें  प्रत्येक कार्बन परमाणु पर sp2 संकरण  है I दूसरी शर्त हकल का रूल  (4n+2)π electrons का पालन करता है क्योंकि इसमें फोर्मुले के अनुसार 6 pi इलेक्ट्रान  है I तीसरी शर्त pi electrono का पूर्णत: विस्थानिकरण होता है इसे अनुनाद के द्वारा इस तरह समझ सकते है I

इस डायग्राम को देखकर आपको समझ आ रहा होगा.यह अनुनाद सरंचना है. जिसमे पहले वाला अनुनाद सरंचना ट्रोपोलियम केटायन की है.जिसमे + आवेश pi इलेक्ट्रान को आकर्षित करते है.और + से बंध और बंध से + का निर्माण हो रहा है,यह एरोमेटिक है.

इसमें 6 pi इलेक्ट्रान है I दूसरा उदाहरण ट्रोपोलियम एनायन का  है I जिसमे 8pi इलेक्ट्रान है इसमें भी अनुनाद हो रहा है I यह aromatic yogik नहीं है. I यह एंटी एरोमेटिक है I

इन दोनों उदाहरण में  अनुनाद एक  सामान दिख रहा है.पहले वाले अनुनाद में + से बंध एयर बंध से धन बन रहा है I लेकिन दुसरे अनुनाद में – से बंध और बंध से – बन रहा है.organic chemistry aromatic compounds

antiaromaticity in hindi

सायक्लो आक्टा टेट्रा ईन

 

सायक्लो आक्टा टेट्रा ईन  
सायक्लो आक्टा टेट्रा ईन

यह एरोमेटिक नहीं है,क्योंकि यह हकल नियम का पालन नहीं करता है ,क्योंकि इसमें 8 pi  इलेक्ट्रान होते है.यह सायक्लो आक्टा टेट्रा ईन  में sp2 संकरण है,लेकिन यह planner नहीं है.  इसका आकार टब के आकार का होता है.इस प्रकार :-

सायक्लो आक्टा टेट्रा ईन
सायक्लो आक्टा टेट्रा ईन

विषम चक्रीय यौगिक:-

hetrocyclic compound
heterocyclic compound

विषम चक्रीय यौगिक भी एरोमेटिक गुण दर्शाते है.

दोस्तों आज हमने देखा ऐरोमैटिकता क्या होती है ?इसकी क्या शर्ते है?ऐरोमैटिकता एरोमेटिक  यौगिक का केमिकल गुण होता है.जिसके लिए तीन अत्यंत आवश्यक शर्ते होती है.और कुछ इसके महत्वपूर्ण उदाहरन है .जिसमे अनुनाद भी देखा जी यौगिक के  स्थायित्व को बढ़ाते है.

कुछ छुट  गया  हो तो आप कमेंट बॉक्स में अपने प्रशन या प्रॉब्लम शेयर कर सकते है.इसे शेयर कर सकते अपने दोस्त या फॅमिली में .में और भी प्रॉब्लम का सलूशन लेकर में जल्दी ही आपके सामने प्रस्तुत करूँगा .थैंक्यू .

इस वेबसाइट पर बी.एससी. प्रथम से लेकर बी.एससी. तृतीय वर्ष chemistry के सारे टॉपिक और प्रैक्टिकल, आल सिलेबस,इम्पोर्टेन्ट प्रशन,सैंपल पेपर, नोट्स chemistry QUIZ मिलेंगे.B.SC.प्रथम वर्ष से लेकर तृतीय वर्ष तक के 20-20 QUESTION के हल मिलेंगे.

2 Comments on “Aromaticity in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*