12 Principles of Green Chemistry Right Now

12 Principles of Green Chemistry Right Now

आज की दुनिया में, जहां पर्यावरण संबंधी चिंताएं वैश्विक चर्चाओं में सबसे आगे हैं, हरित रसायन विज्ञान की अवधारणा ने महत्वपूर्ण महत्व प्राप्त कर लिया है। हरित रसायन विज्ञान रासायनिक डिजाइन और उत्पादन के लिए एक अभिनव दृष्टिकोण है जिसका उद्देश्य खतरनाक पदार्थों के उपयोग और उत्पादन को कम करना है। यह रासायनिक उत्पादों के पूरे जीवन चक्र में स्थिरता, दक्षता और पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने पर केंद्रित है। यह लेख 12 principles of green chemistry, उनके महत्व और एक हरित कल बनाने के लिए समय के साथ कैसे विकसित हुए हैं, इस पर प्रकाश डालेगा।

Outline:

  1. Introduction
  2. Principle 1: Prevention
  3. Principle 2: Atom Economy
  4. Principle 3: Less Hazardous Chemical Syntheses
  5. Principle 4: Designing Safer Chemicals
  6. Principle 5: Safer Solvents and Auxiliaries
  7. Principle 6: Design for Energy Efficiency
  8. Principle 7: Use of Renewable Feedstocks
  9. Principle 8: Reduce Derivatives
  10. Principle 9: Catalysis
  11. Principle 10: Design for Degradation
  12. Principle 11: Real-time Analysis for Pollution Prevention
  13. Principle 12: Safer Chemistry for Accident Prevention
  14. Evolution of the 12 Principles of Green Chemistry
  15. Conclusion
  1. Introduction

रसायन विज्ञान का क्षेत्र लंबे समय से खतरनाक पदार्थों के उपयोग और जहरीले कचरे के उत्पादन के कारण विभिन्न पर्यावरणीय चुनौतियों से जुड़ा हुआ है। हालाँकि, हरित रसायन विज्ञान के आगमन के साथ, एक आदर्श बदलाव आया है, जिसमें स्थायी प्रथाओं पर ध्यान केंद्रित किया गया है जो स्वच्छ और हरित भविष्य को बढ़ावा देते हैं। 12 principles of green chemistry सिद्धांत रसायनज्ञों और वैज्ञानिकों के लिए नवीन और पर्यावरण के अनुकूल समाधान विकसित करने के लिए एक रोडमैप के रूप में कार्य करते हैं।

Principle 1: Prevention

12 Principles of Green Chemistry
12 Principles of Green Chemistry

हरित रसायन विज्ञान का पहला सिद्धांत कचरे के उपचार या निपटान के बजाय उसे रोकने के महत्व पर जोर देता है। न्यूनतम अपशिष्ट उत्पन्न करने वाली रासायनिक प्रक्रियाओं को डिज़ाइन करके, पर्यावरणीय प्रभाव को काफी कम किया जा सकता है। यह सिद्धांत नवीकरणीय संसाधनों के उपयोग, पुनर्चक्रण और दक्षता को अधिकतम करने को प्रोत्साहित करता है।

Principle 2: Atom Economy

परमाणु अर्थव्यवस्था का तात्पर्य रासायनिक प्रतिक्रिया में परमाणुओं के कुशल उपयोग से है। हरित रसायन विज्ञान के दूसरे सिद्धांत का लक्ष्य अंतिम उत्पाद में सभी अभिकारकों के समावेश को अधिकतम करना, उप-उत्पादों की पीढ़ी को कम करना है। यह सिद्धांत संसाधनों के संरक्षण को बढ़ावा देता है और समग्र पर्यावरणीय प्रभाव को कम करता है।

Principle 3: Less Hazardous Chemical Syntheses

तीसरा सिद्धांत उन तरीकों को डिजाइन करने और उपयोग करने पर केंद्रित है जो विषाक्त पदार्थों के उपयोग को कम या समाप्त करते हैं। खतरनाक रसायनों को सुरक्षित विकल्पों से बदलने से मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए जोखिम काफी कम हो जाता है। यह सिद्धांत सुरक्षा को प्राथमिकता देने वाले नवीन सिंथेटिक मार्गों की खोज को प्रोत्साहित करता है।

Principle 4: Designing Safer Chemicals

सुरक्षित रसायनों को डिज़ाइन करना हरित रसायन विज्ञान का एक अनिवार्य पहलू है। यह सिद्धांत ऐसे रासायनिक उत्पादों के निर्माण पर जोर देता है जिनमें न्यूनतम विषाक्तता और पर्यावरणीय दृढ़ता होती है। विकास के शुरुआती चरणों से संभावित खतरों पर विचार करके, रसायनज्ञ प्रदर्शन से समझौता किए बिना सुरक्षित विकल्पों का उत्पादन सुनिश्चित कर सकते हैं।

Principle 5: Safer Solvents and Auxiliaries

सॉल्वैंट्स रासायनिक प्रतिक्रियाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, लेकिन कई पारंपरिक सॉल्वैंट्स मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए हानिकारक हैं। पाँचवाँ सिद्धांत सुरक्षित सॉल्वैंट्स के उपयोग को प्रोत्साहित करता है जो गैर विषैले, गैर-वाष्पशील और बायोडिग्रेडेबल हैं। उपयुक्त सॉल्वैंट्स और सहायक पदार्थों का चयन करके, रसायनज्ञ रासायनिक प्रक्रियाओं के पर्यावरणीय प्रभाव को काफी कम कर सकते हैं।

Principle 6: Design for Energy Efficiency

पर्यावरणीय क्षरण में ऊर्जा की खपत का महत्वपूर्ण योगदान है। हरित रसायन विज्ञान का छठा सिद्धांत ऊर्जा-कुशल रासायनिक प्रक्रियाओं के डिजाइन पर जोर देता है। प्रतिक्रिया स्थितियों को अनुकूलित करके, नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों का उपयोग करके, और ऊर्जा-गहन कदमों को कम करके, समग्र ऊर्जा खपत को कम किया जा सकता है, जिससे एक हरित और अधिक टिकाऊ भविष्य की ओर अग्रसर हो सकता है।

Principle 7: Use of Renewable Feedstocks

12 principles of green chemistry
12 principles of green chemistry

जीवाश्म संसाधन सीमित हैं, और उनका निष्कर्षण और उपभोग पर्यावरण प्रदूषण में योगदान करते हैं। सातवां सिद्धांत रासायनिक प्रक्रियाओं के लिए कच्चे माल के रूप में नवीकरणीय फीडस्टॉक के उपयोग को बढ़ावा देता है। बायोमास, अपशिष्ट धाराओं और अन्य टिकाऊ स्रोतों का उपयोग करके, जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम किया जा सकता है, जिससे अधिक टिकाऊ और परिपत्र अर्थव्यवस्था बन सकती है।

Principle 8: Reduce Derivatives

आठवां सिद्धांत रासायनिक संश्लेषण में अनावश्यक व्युत्पन्नकरण चरणों को कम करने को प्रोत्साहित करता है। अनावश्यक कार्यात्मक समूह परिवर्तनों को समाप्त करके, रसायनज्ञ अपशिष्ट उत्पादन को कम कर सकते हैं और समग्र प्रक्रिया दक्षता में सुधार कर सकते हैं। यह सिद्धांत प्रत्यक्ष और सीधे सिंथेटिक मार्गों के उपयोग को बढ़ावा देता है।

Principle 9: Catalysis

कुशल और चयनात्मक रासायनिक परिवर्तनों को सक्षम करके हरित रसायन विज्ञान में कैटेलिसिस एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। नौवां सिद्धांत ऐसे उत्प्रेरकों के उपयोग को बढ़ावा देता है जो पर्यावरण के लिए अनुकूल हैं और हल्की परिस्थितियों में प्रतिक्रियाओं को सुविधाजनक बना सकते हैं। उत्प्रेरक का उपयोग करके, रसायनज्ञ ऊर्जा खपत, अपशिष्ट उत्पादन और खतरनाक अभिकर्मकों के उपयोग को कम कर सकते हैं।

Principle 10: Design for Degradation

दसवां सिद्धांत उन रासायनिक उत्पादों के डिज़ाइन पर जोर देता है जो आसानी से नष्ट हो सकते हैं। ऐसे यौगिकों को विकसित करके जो अपने उपयोगी जीवन के बाद गैर विषैले पदार्थों में टूट सकते हैं, पर्यावरणीय बोझ को काफी कम किया जा सकता है। यह सिद्धांत बेहतर बायोडिग्रेडेबिलिटी और पर्यावरण में कम स्थायित्व वाली सामग्रियों के विकास को प्रोत्साहित करता है।

Principle 11: Real-time Analysis for Pollution Prevention

वास्तविक समय विश्लेषण तकनीकें रसायनज्ञों को रासायनिक प्रक्रियाओं की अधिक प्रभावी ढंग से निगरानी और नियंत्रण करने में सक्षम बनाती हैं। ग्यारहवां सिद्धांत उन विश्लेषणात्मक उपकरणों और पद्धतियों के उपयोग को प्रोत्साहित करता है जो त्वरित प्रतिक्रिया प्रदान करते हैं। वास्तविक समय विश्लेषण को लागू करके, संभावित खतरों की पहचान की जा सकती है और तुरंत संबोधित किया जा सकता है, जिससे प्रदूषण की रोकथाम और बेहतर प्रक्रिया सुरक्षा हो सकती है।

Principle 12: Safer Chemistry for Accident Prevention

रासायनिक दुर्घटनाओं के मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों पर गंभीर परिणाम हो सकते हैं। 12 principles of green chemistry दुर्घटनाओं को रोकने के लिए रासायनिक प्रक्रियाओं को डिजाइन करने के महत्व पर जोर देता है। मजबूत सुरक्षा उपायों को लागू करके, जैसे कि स्वाभाविक रूप से सुरक्षित प्रौद्योगिकियों का उपयोग और संपूर्ण जोखिम मूल्यांकन, दुर्घटनाओं की संभावना को कम किया जा सकता है, जिससे सुरक्षित कार्य वातावरण सुनिश्चित किया जा सकता है।

Evolution of the 12 Principles of Green Chemistry

बढ़ती पर्यावरणीय चिंताओं और स्थायी समाधानों की आवश्यकता को संबोधित करने के लिए 12 principles of green chemistry समय के साथ विकसित हुए हैं। शुरुआत में 1998 में पॉल अनास्तास और जॉन वार्नर द्वारा प्रस्तावित, ये सिद्धांत दुनिया भर में शोधकर्ताओं, शिक्षकों और उद्योगों के लिए एक मार्गदर्शक ढांचा बन गए हैं। उन्होंने हरित कल बनाने के उद्देश्य से नई प्रौद्योगिकियों के विकास, रासायनिक प्रक्रियाओं के पुन: डिज़ाइन और भविष्य के रसायनज्ञों की शिक्षा को प्रभावित किया है।

Conclusion

12 principles of green chemistry टिकाऊ रासायनिक डिजाइन और उत्पादन के लिए एक व्यापक और समग्र दृष्टिकोण प्रदान करते हैं। इन सिद्धांतों को लागू करके, रसायनज्ञ और वैज्ञानिक एक हरित कल के निर्माण में योगदान दे सकते हैं। रोकथाम, परमाणु अर्थव्यवस्था, सुरक्षित रसायनों और सॉल्वैंट्स के उपयोग, ऊर्जा दक्षता, नवीकरणीय फीडस्टॉक्स और अन्य प्रमुख पहलुओं के माध्यम से, हरित रसायन विज्ञान का लक्ष्य पर्यावरणीय प्रभाव को कम करना और आने वाली पीढ़ियों के लिए अधिक टिकाऊ भविष्य को बढ़ावा देना है।

__________________________________________

FAQ

Q1.हरित रसायन क्या है?

A.हरित रसायन विज्ञान रासायनिक डिजाइन और उत्पादन का एक दृष्टिकोण है जो स्थिरता, दक्षता और पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने पर केंद्रित है। इसका उद्देश्य रासायनिक उत्पादों के पूरे जीवन चक्र में खतरनाक पदार्थों के उपयोग और उत्पादन को कम करना है।

Q2.12 principles of green chemistry क्यों महत्वपूर्ण हैं?

A.12 principles of green chemistry रसायनज्ञों और वैज्ञानिकों के लिए नवीन और पर्यावरण के अनुकूल समाधान विकसित करने के लिए एक रोडमैप के रूप में कार्य करते हैं। वे अन्य प्रमुख पहलुओं के अलावा अपशिष्ट को कम करने, नवीकरणीय संसाधनों का उपयोग करने, सुरक्षित रसायनों को डिजाइन करने और ऊर्जा दक्षता को बढ़ावा देने के लिए दिशानिर्देश प्रदान करते हैं।

Q3.समय के साथ 12 principles of green chemistry कैसे विकसित हुए हैं?

A.श्यकता को संबोधित करने के लिए विकसित हुए हैं। उन्होंने अनुसंधान, शिक्षा और उद्योग प्रथाओं को प्रभावित किया है, जिससे हरित प्रौद्योगिकियों और प्रक्रियाओं का विकास हुआ है।

Q4.Green chemistry में नवीकरणीय फीडस्टॉक्स के उपयोग का क्या महत्व है?

A.रासायनिक प्रक्रियाओं में नवीकरणीय फीडस्टॉक का उपयोग जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम करने में मदद करता है और अधिक टिकाऊ और परिपत्र अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देता है। बायोमास, अपशिष्ट धाराओं और अन्य टिकाऊ स्रोतों का उपयोग करके, रासायनिक उत्पादन के पर्यावरणीय प्रभाव को काफी कम किया जा सकता है।

Q5.हरित रसायन कल को हरित बनाने में कैसे योगदान दे सकता है?

A.हरित रसायन विज्ञान टिकाऊ प्रथाओं को बढ़ावा देता है जो पर्यावरणीय प्रभाव को कम करते हैं। 12 सिद्धांतों को शामिल करके, रसायनज्ञ और वैज्ञानिक नवीन समाधान विकसित कर सकते हैं जो दक्षता, सुरक्षा और स्थिरता को प्राथमिकता देते हैं, अंततः एक हरित और अधिक टिकाऊ भविष्य में योगदान करते हैं।

introduction to green chemistry

Leave a Comment